Search
Close this search box.

Download App from

Follow us on

समाज पर व्यक्ति की सेवा, नेकी, ईमानदारी व धार्मिक जीवन की छाप सदैव रहती है- साध्वी लक्ष्यप्रभा, समाजसेवी थानमल खटेड़ की स्मृति में आयोजित सभा में आचार्य महाश्रमण के संदेश का वाचन

समाज पर व्यक्ति की सेवा, नेकी, ईमानदारी व धार्मिक जीवन की छाप सदैव रहती है- साध्वी लक्ष्यप्रभा,

समाजसेवी थानमल खटेड़ की स्मृति में आयोजित सभा में आचार्य महाश्रमण के संदेश का वाचन

लाडनूं। क्षेत्र के प्रमुख समाजसेवी थानमल खटेड़ की स्मृति में एक शोकसभा का आयोजन यहां पहली पट्टी स्थित ऋषभ द्वार भवन मे साध्वीश्री लक्ष्यप्रभा के सान्निध्य में आयोजित की गई। सभा में आचार्यश्री महाश्रमण व साधीप्रमुखा विश्रुतविभा से प्राप्त संदेशों का वाचन दीपचंद सुराणा, नरेन्द्र सिह भूतोड़िया ने किया। शासनश्री साध्वी ज्ञानवती व लक्ष्मीनारायण बैंगाणी के संदेश का वाचन राजेन्द्र खटेड़ व सुरेश मोदी ने किया। प्रेषित संदेश में आचार्यश्री महाश्रमण ने परिजनों, सम्बंधीजनों को सम्बल प्रदान करते हुए धैर्य, मनोबल बनाए रखने व आध्यात्मिक माहौल निर्मित रखने के लिए लिखा है। साथ ही बताया है कि जन्म लेने वाले हर व्यक्ति अवसान को प्राप्त होता है, कोई भी प्राणी इसका अपवाद नहीं हो सकता। साध्वीप्रमुख विश्रुतविभा ने घटना को समभाव से लेने और आत्र्तध्यान से बचकर घटना को कर्मबंधन नहीं बनाने का प्रयत्न करने एवं धार्मिक वातावरण निर्मित रखने के लिए प्रेरित किया है। शासनश्री साध्वी ज्ञानवती ने खटेड़ परिवार का शासनभक्त व संघनिष्ठ बताया और दिवंगत के जीवन के आदर्शों से जीवनरूपी उद्यान को महकाने के लिए प्रेरित किया है।

आदर्शों को पूरा परिवार अपनाए

इस अवसर पर साध्वीश्री लक्ष्यप्रभा ने कहा कि मृत्यु दुनिया का नियम है मगर सेवा, नेकी, ईमानदारी व धार्मिक जीवन की छाप व्यक्ति समाज पर छोड़ कर जाता है। व्यक्ति में सामाजिक कार्यकर्ता की सोच हो और लगनव पुरूषार्थ हो तभी ऐसा बन पाता है और ऐसे व्यक्ति के चले जाने पर उसकी कमी और दुःख का अहसास होता है। उन्होंने कहा कि दिवंगत व्यक्ति के आदर्शों को पूरे परिवार को अपनाना चाहिए। विशेष अवसरों पर उन्हें याद करने पर उसके सद्कर्मों की उर्जा-तरंगें परिवार को सदैव मिलती रहती है। इस अवसर पर जैन विश्वभारती संस्थान मान्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़, अणुव्रत समिति के शांतिलाल बैद, तेरापंथ महिला मंडल की सुनीता बैद, डा. सुशीला बाफना आदि ने अपने विचार व्यक्त करते हुए दिवंगत थानमल खटेड़ एक प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता थे। वे धीर-गंभीर व्यक्ति, दबंग, स्पष्टवादी, नीतिज्ञ, धार्मिक कार्यकर्ता के रूप में सक्रिय रहे। इस अवसर पर स्व. खटेड़ के परिजन राजेश खटेड़, प्रमोद खटेड़, विनोद खटेड़, महेन्द्र मुणहोत, सुरेन्द्र मुणहोत, राजकुमार मुणहोत सहित सभीजन उपस्थित रहे। खटेड़ की पौत्री पुनवीता, नियति व पौत्र दीक्षित खटेड़ ने उन्हें परिवार, समाज व नगर के लिए जीने वाला बताया तथा कहा कि वे सदैव जन कल्याण व समाज सेवा करने वाले थे, जिन्हें सभी याद करते हैं। इन्होंने इस अवसर पर अपने दादा के दिखाए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया।

ये सब रहे उपस्थित

सभा में विजयसिंह जोशी गौहाटी, श्रीराम आनन्द गौशाला के अध्यक्ष सुशील पीपलवा, गणगौर मेला समिति के मंत्री नरपतसिंह गौड़, पतंजलि योग समिति के हंसराज सोनी, जेपी टाक, पूसराज बैद, राकेश कोचर, महेन्द्र बाफना, तेजकरण शर्मा, बुगल जैन, ललित वर्मा, चैथमल किला, महेन्द्र सेठी, श्यामसुंदर शर्मा, भंवरलाल वर्मा, हनुमान मल जांगिड, निरंजन सिंह सांखला, जगदीश यायावर आदि उपस्थित रहे। सभा के अंत में साध्वी लक्ष्यप्रभा ने मंगल पाठ किया। कार्यक्रम का संचालन सुरेश मोदी ने किया।

kalamkala
Author: kalamkala

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!

We use cookies to give you the best experience. Our Policy