Search
Close this search box.

Download App from

Follow us on

भामाशाह लाहोटी ने कहा अब तक 87 हजार पौधे बांटे, कुल डेढ लाख वितरण करने हैं, निम्बी जोधां में 1800 पौधों का वितरण करके संरक्षण की शपथ दिलवाई

भामाशाह लाहोटी ने कहा अब तक 87 हजार पौधे बांटे, कुल डेढ लाख वितरण करने हैं,

निम्बी जोधां में 1800 पौधों का वितरण करके संरक्षण की शपथ दिलवाई

लाडनूं। कोलकाता प्रवासी भामाशाह श्रीनिवास लाहोटी ने कहा है पौधारोपण का शौक लोगों में तेजी से पनप रहा है और सभी अपने-अपने घरों में ही नहीं खाली जगहों, नोहरों और मैदानों तक में पौधारोपण करके उनका पालन-पोषण कर रहे हैं। वे यहां निम्बी जोधां स्थित माहेश्वरी भवन में आयोजित पौधारोपण कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि उन्होंने दो सालों से पर्यावरण संरक्षण के लिए पेड़ लगाने का अभियान चला रखा है, जिसे ‘पौधा उत्सव’ नाम दिया गया है। अब तक लाडनूं, जसवंतगढ, निम्बीजोधां, डाबड़ी, कसूम्बी आदि विभिन्न गांवों में वे 87 हजार 300 पौधों का वितरण कर चुके हैं। इनमें सभी पौधो छायादार, फलदार, फूलदार हैं। उन्होंने बताया कि उनका लक्ष्य कुल 1 लाख 33 हजार 225 पौधों का वितरण करके अपनी गृह तहसील के गांवों को हरा-भरा बनाने का है। गुरूवार को निम्बी जोधां में उन्होंने 1800 पौधों का वितरण किया, जिनमें अमरूद, आंवला रातरानी, गुलमोहर, बिल्व, नीम्बू, स्टोपा, कनेर, अनार, गुड़हल, मोगरा, चमेली आदि शामिल हैं। डा. ललित सोमानी ने कहा कि सब मिलकर यह अभियान चलाएंगे, तो हम देश को हरा-भरा बना देंगे। इस अवसर पर पौधो ले जाने वाले सभी जनों को पौधों के संरक्षण, पालन-पोषण व प्रकृति रक्षा की शपथ दिलवाई गई। अंत में डा. ललित सोमानी ने सबको शपथ ग्रहण करवाई। इस अवसर पर भगवती देवी लाहोटी, रामरेखा शर्मा, सुमित्रा आर्य, वैद्य राजेश मिश्रा, डा. ललित सोमानी, सरपंच नवरत्त्न खीचड़, ग्राम विकास अधिकारी नरेन्द्र भाकर, धर्मवीर, जुगल किशोर पारीक, भागीरथ सारड़ा, सुभाष पारीक, विजय कुमार बागड़ी, इकबाल भाटी, मयंक जोशी, प्रकाश जोशी, अरूण कुमार पंडित, दामोदर ओझा, नानूराम घोटिया, ओमप्रकाश नाई, प्रवीण पारीक आदि उपस्थित रहे।
kalamkala
Author: kalamkala

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!

We use cookies to give you the best experience. Our Policy