Search
Close this search box.

Download App from

Follow us on

अवैध खनन के खिलाफ 15 से 31 जनवरी तक चलेगा जिले भर में अभियान  कलेक्टर की निगरानी में माइनिंग, राजस्व, पुलिस, परिवहन और वन विभाग द्वारा संयुक्त रुप से चलाया जाएगा अभियान, जिला कलेक्टर ने बैठक लेकर अधिकारियों को दिए सख्त कार्यवाही के निर्देश

अवैध खनन के खिलाफ 15 से 31 जनवरी तक चलेगा जिले भर में अभियान 

कलेक्टर की निगरानी में माइनिंग, राजस्व, पुलिस, परिवहन और वन विभाग द्वारा संयुक्त रुप से चलाया जाएगा अभियान,

जिला कलेक्टर ने बैठक लेकर अधिकारियों को दिए सख्त कार्यवाही के निर्देश

नागौर (kalamkala.in)। मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश के पर अवैध खनन के खिलाफ कठोर कार्रवाई की यहां योजना बनाई गई है। इसके तहत अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के खिलाफ 15 जनवरी से 31 जनवरी तक जिले भर में विशेष अभियान चलाया जाएगा। अभियान का संचालन खान, राजस्व, पुलिस, परिवहन और वन विभाग द्वारा संयुक्त रुप से किया जाएगा। अभियान का संचालन जिला कलक्टर की निगरानी में किया जाएगा और संबंधित अधिकारियों को प्रतिदिन प्रगति रिपोर्ट से भी अवगत करवाना होगा। अभियान के सफल संचालन हेतु आवश्यक तैयारियों को लेकर जिला कलेक्टर डॉ. अमित यादव ने रविवार को कलेक्ट्रेट सभागार में संबंधित अधिकारियों की बैठक ली।

पांच विभागों का रहेगा संयुक्त अभियान

बैठक में जिला कलक्टर डॉ यादव ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देशों की पालना में अवैध खनन गतिविधियों के खिलाफ पांच विभागों का संयुक्त अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है। अब जिले में खनन माफियाओं के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। जिले में सर्वाधिक अवैध खनन गतिविधियां बजरी और मेसेनरी स्टोन की होती है। इसमें अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण शामिल है। उन्होंने स्पष्ट किया कि परस्पर समन्वय सहयोग से अभियान को सफल बनाया जाना है। बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि पांचों विभाग संयुक्त रुप से कार्यवाही करते हुए नियमानुसार सख्त से सख्त कार्रवाई करें और अवैध परिवहन तक ही सीमित ना रहकर अवैध गतिविधियों के स्रोत व स्थान को चिन्हित कर कार्यवाही करें, ताकि समस्या को जड़़ से समाप्त किया जा सके। अवैध खनन गतिविधियों वाले प्रभावित क्षेत्र एवं प्रमुख स्थानों को चिन्हित करें, ताकि ऐसे इलाकों में मशीनरी की जब्ती सहित कठोर कार्यवाही की जा सके। इस दौरान उन्होंने कहा कि अभियान के दौरान किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। साथ ही इन गतिविधियों में कोई सरकारी कर्मचारी लिप्त पाया जाता है या खनन माफियाओं के साथ कोई जानकारी साझा करता है तो उसके खिलाफ भी नियमानुसार सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।

सभी अधिकारियों की तय होगी जवाबदेही

इस दौरान उन्होंने खनि अभियंता को निर्देश देते हुए कहा कि अभियान की नियमित मॉनिटरिंग करें तथा खनन क्षेत्र में आने वाले सभी अधिकारियों की जबावदेही तय करने के साथ ही प्रतिदिन लक्ष्यानुरूप प्रगति दिखाएं। साथ ही अभियान के दौरान की गई कार्रवाई की प्रतिदिन सूचना भेजने तथा संबंधित क्षेत्र के अधिकारियों व कर्मचारियों की हर दूसरे-तीसरे दिन बैठक आयोजित करने के भी निर्देश दिए।

उपखंड स्तर पर होंगे दल गठित

इस दौरान खनि अभियंता ने बताया कि सर्वाधिक अवैध गतिविधियां रियां बड़ी क्षेत्र में बजरी से संबंधित तथा गोटन व खींवसर क्षेत्र में लाइम स्टोन की होती है, जिस पर प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। जिस पर जिला पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस ने बताया कि खनन माफिया की धरपकड़ हेतु अत्यधिक खनन वाले क्षेत्रों में अस्थाई चौकी स्थापित की जाएगी तथा प्रत्येक गतिविधि पर निगरानी रखकर अवैध खनन गतिविधियों में लिप्त छोटे से बड़े स्तर के सभी खननकर्ताओं के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए उपखंड स्तर पर दलों का गठन किया जाएगा तथा संबंधित उपखंड स्तरीय अधिकारी जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार प्रभावी मॉनिटरिंग करेंगे।

ओवरलोड व बिना नम्बरी वाहनों पर कसेगी लगाम

राज्य के मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश के बाद जिला कलेक्टर की निगरानी में जिले में अवैध खनन गतिविधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इसके लिए खनन क्षेत्र में प्रशासन व पुलिस विभाग द्वारा दल का गठन कर तथा मोबाइल पार्टियों के माध्यम से अवैध खनन पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी तथा समय-समय पर गश्त भी की जाएगी।
जिला पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस ने बताया कि रवन्ना पर्ची पर ओवरलोड होकर जाने वाले वाहनों पर कार्रवाई करते हुए उनका डाटा कलेक्ट किया जाएगा तथा इन गतिविधियों में लिप्त होने वाले वाहनों की सघन जांच की जाएगी। इस दौरान जिला कलेक्टर ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि बिना नंबर के दौड़ रहे वाहनों तथा अवैध खनन गतिविधियों में लिप्त पाए जाने वाले वाहनों पर सख्त कार्रवाई करें तथा ऐसे वाहनों पर जब्ती की कार्यवाही भी करें। जिला कलेक्टर ने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि लीज धारकों को एनओसी देने से पूर्व उनकी पूर्णतया जांच करें तथा जिन खातेदारों को एनओसी जारी की गई है उनकी प्रभावी मॉनिटरिंग करें तथा उनकी सूची बनाकर मुख्यालय पर उपलब्ध करवाएं। जिला कलेक्टर ने खनिज व परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए संबंधित क्षेत्र में परिवहन करने वाले वाहनों की सघन जांच करने तथा इन वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने के भी निर्देश दिए।

ये सब अधिकारी रहे उपस्थित 

बैठक में कार्यवाहक एडीएम अमिता मान, खनि. अभियंता सहदेव सारण, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार, जिला परिवहन अधिकारी सुप्रिया बिश्नोई, डीओआइटी के कुंभाराम रेलावत सहित वन विभाग व राजस्व विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे।

kalamkala
Author: kalamkala

Share this post:

खबरें और भी हैं...

प्रदेश का सबसे शोषित वर्ग है पत्रकार, सरकार की पूरी उपेक्षा का है शिकार, अधिस्वीकरण पर पैसे वालों का अधिकार, सब सुविधाओं से वंचित हैं सात हजार पत्रकार, आईएफडब्ल्यूजे के प्रदेशाध्यक्ष उपेन्द्र सिंह ने बयां की हकीकत 

Read More »

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!

We use cookies to give you the best experience. Our Policy